Search

Category: Hindi

अंतर

वो नही बना सखी,जो नही मिला मुझे सखी ये समझने में इतना समय क्यूँ...

चादर

चादर

मैं, एक चौकोर बिस्तर पर बिछी सफेद चादर हूँ, गद्दे के नीचे कसकर...

बचपन

कौन कहता है बचपन बहुत आसान होता है

कौन कहता है बचपन बहुत आसान होता है …… मैन छोटे से मासूम चेहरे...

कालिख

“यह कविता एक कटाक्ष है, हमारी उस मनोवृति क लिए जो हम सब को बस एक...

बेटियां

 || है मुझे ये विश्वास, एक दिन होगा आपको भी एहसास || बहुत ख़ूबसूरत, न...

अरे ए रुपैया ओ रुपैया

अरे ए रुपैया ओ रुपैया सबका मर्ज़ है ये भैया , खनक खनक ये करता है...

inkdriftaasannhihoga

आसां तो नही था…

जिंदगी जीने के लिए….मेहनत करना…. उनके लिए आसां तो नही था……....